Talk more about your products here.

Tell prospective customers more about your company and the services you offer here.  Replace this image with one more fitting to your business.

Introduction Of Computer

Computer शब्द की उत्पति English के Word – “Comput” से हुई हैं| जिसका अर्थ है – “गणना करना”|
मूलत: Computer का विकास गणितीय गणनाओं के उद्देश्यों की पूर्ति हेतु हुआ था|

History of Computers

600 B.C. में Computer का आविष्कार मेसोपोटामिया में ‘अबेकस’ के रूप में हुआ था| इसी प्रकार Calculator का आविष्कार 17 वीं सदी की शुरुआत में जॉन नेपियर ने किया था| जिसका मूल उद्देश्य गणितीय गणनाओं की पूर्ति करना था|

Computer Generations

Computer तकनिकी के विकास के द्वारा Computer की कार्यक्षमता और दक्षता में जो विकास हुआ, उसके आधार पर Computer की पीढ़ियाँ बाँटी गयी| सन 1964 में कार्यक्षमताओं के इस विकास को Computer Generation नाम दिया गया|

First Generation Computers

पहली पीढ़ी के Computers में Electronic Signals को Control and Transmite करने के लिए वैक्यूम ट्यूब्स का Use होता था| ये भारी मात्रा में गर्मी उत्पन्न करते थे और Size में भी काफी बड़े होते थे| जिसकी वजह से काफी स्थान घेरते थे व इनकी Calculation Power भी Low थी|

Second Generation Computers

दूसरी पीढ़ी के Computers में वैक्यूम ट्यूब्स के स्थान पर Transistors का प्रयोग होने लगा| जो की वाल्व्स की तुलना में काफी छोटे होते थे| ये वाल्व्स की तुलना में काफी सस्ते और सक्षम भी होते थे| जिसकी मदद से कम स्थान घेरने वाले और ज्यादा Calculation Power वाले Computers का निर्माण हुआ|

Third Generation Computers

तीसरी पीढ़ी के Computers Size में काफी छोटे थे| इन Computers में Si (सिलिकॉन) चिप से बने IC का प्रयोग होता था| जिसके परिणामस्वरूप अब तक के सबसे छोटे Computer का निर्माण संभव हुआ| इस Generation के Computer को एक साथ एक छोटी टेबल पर set करके प्रयोग किया जा सकता था|

Fourth Generation Computers

चौथी पीढ़ी के Computers में Microprocessor का Use होने लगा| Single Chip पर हजारों Transistor लगाकर VLSI (Very Large Scale Integration /बड़े पैमाने पर एकीकरण) तैयार किए जाने लगे|

Fifth Generation Computers

पाँचवी पीढ़ी के रूप में एक नई तकनिकी उभर कर सामने आई जिसे ULSI (Ultra Large Scale Integration) कहा जाने लगा| इसके प्रयोग से Microprocessor चिप पर 10 लाख तक Electronic Devices को शामिल किया जाता था| इसी पीढ़ी में Artificial Intelligence को आरम्भ किया गया|

सूचना प्रणाली के अंग

Computer सूचना प्रणाली का एक हिस्सा है| आम तौर पर सूचना प्रणाली के पाँच भाग होते हैं :- People (लोग), प्रोसिजर, सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर और डाटा|

Computer की विशेषताएँ

Speed (गति) : Computer की Data Processing की गति बहुत ही उच्च होती है| Data की एक बहुत बड़ी मात्रा को संसाधित (Processing) करने में Computer बहुत कम समय लेता है, लगभग एक लाख निर्देशों को Computer एक सेकेंड में process कर देता है|

Computer Software

Computer की मदद से हम विभिन्न कार्य कर सकते हैं| सभी कार्यों को करने के लिए एक सॉफ्टवेयर (Software) की जरूरत पड़ती है|

System Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) Computer के Hardware को Manage और Control करता है| साथ ही user और Computer के बीच सूचनाओं का आदान प्रदान करता हैं|

Application Software

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software) :- इन सॉफ़्टवेयरों को विशेष रूप से उपयोगकर्ताओं (users) की माँग (Demand) के आधार पर Design किया जाता हैं|

Computer Hardware

Computer प्रणाली के किसी भी घटक की भौतिक उपस्थिति का वर्णन Hardware द्वारा किया जाता हैं| या फिर यु कह सकते हैं कि Computer प्रणाली के जिस भी घटक को देखा जा सके और छुआ जा सके, Hardware कहलाता है|

लेखक की ओर से

इस पेज को Expert द्वारा RS-CIT के Syllabus को ध्यान में रखते हुए प्रतिष्ठित पुस्तकों के आधार पर बनाया गया| हालाँकि गलतियों से बचने के लिए हर संभव प्रयास किया गया है| परन्तु फिर भी हमारी अपील है कि अगर किसी भी Topic में आपको कोई गलती दिखे या फिर आपको लगे की इसे और सुधारा जा सकता है, तो आप अपने विचार हमें Comment Section में जरूर बताएँ| या फिर --@gmail.com पर mail करें|

धन्यवाद